Latest Events
  • झूठे मैं से मुक्ति कैसे पायी जा सकती है (How to get rid of False Self)  – Aniruddha Bapu Hindi Discourse 21 August 2014

    झूठे मैं से मुक्ति कैसे पायी जा सकती है (How to get rid of False Self) – Aniruddha Bapu Hindi Discourse 21 August 2014

    मानव के जीवन में लोग जो उसके बारे में कहते हैं उसके आधार पर वह मानव अपनी एक झूठी प्रतिमा बना लेता है और वही उसका सही मैं है यह वह मान लेता है । इस भ्रम कारण से ही उसके जीवन में रण चलता रहता है । भगवान की शरण में जाकर इस ‘ ... ...

  • सही मैं और झूठा मैं (True Self & False Self)  – Aniruddha Bapu Hindi Discourse 21 August 2014

    सही मैं और झूठा मैं (True Self & False Self) – Aniruddha Bapu Hindi Discourse 21 August 2014

    सही मैं और झूठा मैं (True Self & False Self) मानव के भीतर के ‘ सही मैं ’ को यानी बिभीषण को महाप्राण हनुमानजी सामर्थ्य प्रदान करते हैं  । वहीं, मानव के भीतर का ‘ झूठा मैं ’ यह कुंभकर्ण की तरह रहता है । मानव को चाहिए कि भगवान की भक्ति करके वह ‘ झूठे मैं ’ ... ...

  • साईनाथजी की शरण में जाने से जीवन सार्थक बन जाता है | (Take shelter at SaiNathji’s Feet and Life becomes Fruitful – Aniruddha Bapu Hindi Discourse 21 August 2014)

    साईनाथजी की शरण में जाने से जीवन सार्थक बन जाता है | (Take shelter at SaiNathji’s Feet and Life becomes Fruitful – Aniruddha Bapu Hindi Discourse 21 August 2014)

    साईनाथजी की शरण में जाने से जीवन सार्थक बन जाता है | साईनाथजी की शरण में गया और जीवन व्यर्थ हो गया ऐसा इस दुनिया में कोई भी नहीं है ।  यह साईवचन मानव के जीवन में सच हो सकता है, लेकिन इसके लिए उसका सच में साईनाथजी की शरण में जाना अनिवार्य है । ... ...

  • Dr. Nikola Tesla – Father of Humanoid Robotics

    Dr. Nikola Tesla – Father of Humanoid Robotics

    Every human born on planet earth is blessed with talent and individuality. It is something that no one can take away from him. Wealth, fame and all material things can be robbed, cheated and taken away but this individuality of his is God’s real gift to him. The desire to succeed in whatever field a ... ...

  • सहस्र तुलसीपत्र अर्चन विशेषांक

    सहस्र तुलसीपत्र अर्चन विशेषांक

    दैनिक ‘प्रत्यक्ष’चे कार्यकारी संपादक श्री. अनिरुद्ध धैर्यधर जोशी म्हणजेच आपले सर्वांचे लाडके सद्गुरु अनिरुद्ध बापू यांच्याद्वारे लिखित, संतश्रेष्ठ श्रीतुलसीदासजींच्या ‘श्रीरामचरितमानस’मधील सुन्दरकाण्डावर आधारित ‘तुलसीपत्र’ या अग्रलेखमालेतील 1000वा लेख दि. 05-08-2014 रोजी प्रकाशित झाला. या अग्रलेखमालिकेतून श्रद्धावानांना जीवनाच्या सर्व क्षेत्रांमध्ये विकास करण्यासंबंधी मार्गदर्शन बापु करत आहेत, दुष्प्रारब्धाशी लढण्याचे कलाकौशल्य शिकवत आहेत आणि त्याचबरोबर संकटांना समर्थपणे सामोरे जाऊन ... ...